पढ़ें कैसे? शासन की योजनाओं से युवाओं के जीवन में आया परिवर्तन

राजनांदगांव : छत्तीसगढ़ में समन्वित समावेशी एवं सस्टेनेबल औद्योगीकरण के माध्यम से आत्मनिर्भर एवं प्रगतिशील अर्थव्यस्था निर्माण की दिशा में प्रभावी कार्य किए जा रहे हैं। राजनांदगांव जिले में जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र द्वारा विभिन्न योजनाओं के तहत समावेशी विकास के लिए तथा निवेश प्रोत्साहन के लिए महत्वपूर्ण कार्य किए गए हैं। स्थानीय रोजगार को प्राथमिकता देते हुए समाज के कमजोर वर्ग को मजबूत बनाने के लिए विशेष प्रयास किए गए हैं, ताकि शासन की योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंच सके। मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना से जिले के युवाओं के जिन्दगी में परिवर्तन आया है और आत्मनिर्भर बने हैं। वर्ष 2018-19 में 25 युवाओं के लिए 31 लाख 14 हजार रूपए का ऋण वितरित किया गया है। वहीं वर्ष 2019-20 में 11 युवाओं को 29 लाख 75 हजार रूपए का ऋण प्रदान किया गया है। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत वर्ष 2018-19 में 48 युवाओं को राज्य अनुदान के साथ 1 करोड़ 55 लाख 74 हजार रूपए की राशि तथा वर्ष 2019-20 में 50 युवाओं को 2 करोड़ 17 लाख 16 हजार रूपए की राशि प्रदान की गई है। 

जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक श्री एसके सिंह ने बताया कि नवीन उद्योग की स्थापना के लिए युवाओं को स्टॉम्प शुल्क में छूट प्रदान किया गया है। वर्ष 2018-19 में जिले में 41 हितग्राहियों को जिनमें 13 बैंक ऋण के लिए एवं 28 भूमि क्रय के लिए स्टॉम्प शुल्क छूट प्रदान किया गया है। 63 हितग्राहियों को 3 करोड़ 12 लाख 84 हजार की राशि उद्योग स्थापना हेतु बैंक से लिए गए ऋण पर ब्याज अनुदान प्रदान किया गया है। उद्योगों द्वारा भूमि, भवन, शेड एवं यंत्र-संयत्र के व्यय पर अनुदान के रूप में 30 औद्योगिक इकाईयों को 6 करोड़ 78 लाख 8 हजार 917 रूपए की राशि लागत पूंजी अनुदान के रूप में प्रदान की गई। वहीं एक औद्यागिक इकाई को 17 करोड़ 92 लाख 94 हजार की राशि पूंजीगत अनुदान निवेश प्रोत्साहन सहायता अनुदान के रूप में प्रदान की गई। वहीं वर्ष 2019-20 में 23 हितग्राहियों को नवीन उद्योगों की स्थापना के लिए स्टॉम्प शुल्क प्रदान किया गया है। जिनमें 11 हितग्राहियों को बैंक ऋण पर एवं 12 हितग्राहियों को भूमि क्रय पर स्टॉम्प शुल्क प्रदान किया गया है। 62 हितग्राहियों को उद्योग स्थापना के लिए 2 करोड़ 58 हजार की राशि बैंक से लिए गए ऋण पर ब्याज अनुदान प्रदान किया गया है। उद्योगों द्वारा भूमि, भवन, शेड एवं यंत्र-संयत्र के लिए व्यय पर 21 हितग्राहियों को 4 करोड़ 74 लाख 41 हजार रूपए औद्योगिक इकाईयों को लागत पूंजी अनुदान प्रदान किया गया है। वर्ष 2020-21 में 14 हितग्राहियों को स्टॉम्प शुल्क छूट प्रदान किया गया वहीं 57 हितग्राहियों को 1 करोड़ 63 लाख 95 हजार रूपए ब्याज अनुदान एवं 28 औद्यागिक इकाईयों को 8 करोड़ 25 लाख 40 हजार 119 रूपए की राशि लागत पूंजी अनुदान प्रदान की गई है। 

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button