रविवार को राजिम मेला में उमड़ी भीड़

राजिम : माघी पुन्नी मेला के पांचवे दिन की रविवार को भारी भीड़ रही। मेला में इस बार सड़कों की चौड़ाई बढ़ा दी गई है। आस्था धर्म एवं आध्यात्म का संगम धरा में श्रद्धालुगणों का सुबह से ही आना जाना शुरू हो गया था। रविवार छुट्टी का दिन होने के कारण आस्था का सैलाब उमड़ गई थी। मीना बाजार क्षेत्र में खचाखच भीड़ देखने को मिली। दुकानों में सामानों की बिक्री खूब हुई। आकाश, ब्रेक डांस, टोराटोरा, डिजनी लैण्ड, क्राफ्ट बाजार, मौत का कुंआ सहित पूरे मेला मैदान दुकाने सजी हुई है। जिस पर मेलार्थी जरूरत के सामनों को खरीद कियए तथा खाद्य पदार्थ वाले स्टॉल में स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद भी ले रहे थे।

मेला मैदान में अलग-अलग गलियां हैं और इस तरह से 3 किलोमीटर का फासला यहीं से तय करना पड़ रहा है। यहां से सीधे चलते हुए संगम में लंबे चैड़े वर्गाकार क्षेत्रफल में फैले मेला का स्वरूप आज अपने पूरे सबाब पर था। राजिम मेला के प्रमुख मिठाई ओखरा खरीदने के लिए लोगों ने अपने बारी का इंतजार करते रहे। यहां उड़ीसा से ओखरा लेकर व्यापारी पहुंचे हुए है। इनके अलावा देवभोग व अन्य क्षेत्रों से भी आये हुए है। भीड़ बढ़ने के साथ ही खरीददारी भी जमकर हुई। आज रविवार को उनके लिए भी संडे फनडे रहा। प्रतिदिन संगम नदी में बड़ी संख्या में श्रद्धालुगण स्नान कर रहे है। माघ पुर्णिमा में प्रथम स्नान हुआ। दूसरा स्नान जानकी जयंती 24 फरवरी को किया जायेगा तथा तीसरा स्नान महाशिवरात्रि के अवसर पर 1 मार्च को होगा।

नदी की पवित्रता एवं संगम का महत्व पुराणों में भी वर्णित है। दूर-दराज से आने वाले श्रद्धालु संगम के पवित्र जल को देखते ही अपने आप को नहीं रोक पाते और डुबकी लगाने आतुर हो जाते है। प्रदेश सरकार के द्वारा दो शाही स्नान कुंड भी बनाया गया है। इनके अलावा यहां अलग-अलग घाट है जिसमें श्रद्धालुगण दिन प्रतिदिन पुण्य लाभ अर्जित कर रहे है। यहां प्रतिदिन मुक्ताकाषी सांस्कृतिक मंच पर प्रदेश के नामचीन कलाकारों के सांस्कृतिक कार्यक्रम हो रहे है जिसे देखने के लिए दर्शक शाम 5 बजे से ही डट रहे हैं। दर्शक दीर्घा की कुर्सियां भरी रहती है। इनके अलावा यू-ट्यूब, फेसबुक आदि माध्यमों से भी लोग कार्यक्रम का लुफ्त उठा रहे है।

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button