Ads

बढ़ने वाली है आपके कर्ज की EMI, RBI ने आठ महीने में पांचवीं बार रेपो रेट बढ़ाया

नई दिल्ली/सूत्र: भारतीय रिजर्व बैंक ने प्रमुख ब्याज दर यानी रेपो रेट में 35 आधार अंकों की बढ़ोतरी की है. इसके साथ ही अब रेपो रेट बढ़कर 6.25 फीसदी हो गया है. केंद्रीय बैंक ने लगातार पांचवीं बार रेपो रेट में बढ़ोतरी की है। इस तरह पांच किस्तों में रेपो रेट में 2.25 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है. महंगाई को कम करने के लिए आरबीआई ने रेपो रेट में बढ़ोतरी की है।

रेपो रेट में बढ़ोतरी से होम लोन समेत सभी तरह के कर्ज महंगे हो जाएंगे। लेकिन फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करने वालों को फायदा होगा। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी दी। केंद्रीय बैंक ने वित्त वर्ष 2022-23 के लिए जीडीपी ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.8 फीसदी कर दिया है। 30 सितंबर को पिछले नीति वक्तव्य में इसे सात प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था।

क्या है रेपो रेट – रेपो रेट को प्राइम इंटरेस्ट रेट के नाम से भी जाना जाता है। रेपो रेट वह दर है जिस पर वाणिज्यिक बैंक आरबीआई से पैसा उधार लेते हैं। जब बैंकों के लिए उधार देना महंगा हो जाता है, तो वे लागत का भार ग्राहकों पर डाल देते हैं और उच्च दरों पर उधार देते हैं। साफ है कि रेपो रेट बढ़ने पर होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन महंगा हो जाता है। जमा पर ग्राहकों को मिलने वाला ब्याज भी काफी हद तक रेपो रेट से तय होता है। यानी रेपो रेट बढ़ने पर बैंक एफडी पर ब्याज दरें बढ़ा देते हैं। रेपो रेट में कमी से कर्ज सस्ता होता है और ईएमआई कम हो जाती है।

आरबीआई ने इस साल 4 मई को रेपो रेट में 0.4 फीसदी, 8 जून को 0.5 फीसदी, 5 अगस्त को 0.5 फीसदी और 30 सितंबर को 0.5 फीसदी की बढ़ोतरी की थी। महंगाई पर काबू पाने के लिए आरबीआई रेपो रेट में बढ़ोतरी करता है। आरबीआई की मौद्रिक नीति तय करने के लिए सीपीआई (CPI) यानी कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स को माना जाता है। आरबीआई को महंगाई दर को 2-6 फीसदी पर रखने का लक्ष्य दिया गया है, लेकिन इस साल महंगाई दर इस स्तर से लगातार ज्यादा रही है. यही वजह है कि आरबीआई रेपो रेट में लगातार बढ़ोतरी कर रहा है।

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button