मिलावट करने वालों की खैर नहीं, खाद्य तेल की जांच के लिए FSSAI 14 अगस्त तक चलाएगा अभियान

नई दिल्ली: भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) देश में खाद्य तेलों में मिलावट को रोकने और खाद्य तेलों की शुद्धता की जांच करने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान चला रहा है। एक पखवाड़े तक चलने वाला यह अभियान 14 अगस्त तक चलेगा। इसके तहत देश भर से खाद्य तेलों के नमूने जांच के लिए एकत्र किए जाएंगे।

यह अभियान FSSAI को हाइड्रोजनीकृत तेलों में ट्रांस-फैटी एसिड की उपस्थिति की पहचान करने, देश भर में खुले खाद्य तेल की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने और देश में बहु-स्रोत खाद्य तेलों की बिक्री के बारे में जानकारी प्राप्त करने में मदद करेगा।

पिछले साल भी प्राधिकरण ने अभियान चलाकर देश भर से खाद्य तेलों के नमूने जांच के लिए लिए थे। FSSAI द्वारा लिए गए कुल 4,461 नमूनों में से 2.42 प्रतिशत सुरक्षा मानकों पर खरे नहीं उतरे। इतना ही नहीं, देश भर से एकत्र किए गए नमूनों से पता चला कि मिलावटी खाद्य तेल भारी मात्रा में बेचा जा रहा है। लिए गए कुल नमूनों में से 24.2 प्रतिशत गुणवत्ता मानकों पर खरे नहीं उतरे। इस वर्ष प्राधिकरण ने अधिक नमूने एकत्र करने का लक्ष्य रखा है।

राज्य सरकारों ने भी खाद्य तेलों के नमूने लेने शुरू कर दिए हैं। FSSAI ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के खाद्य सुरक्षा आयुक्तों को नमूना संग्रह प्रक्रिया में तेजी लाने का आदेश दिया है। यदि देश भर में अधिक नमूने लिए जाते हैं, तो अधिक व्यापक नमूना आधार बनाया जाएगा और इससे देश में बेचे जाने वाले अधिक खाद्य तेल ब्रांडों की भागीदारी सुनिश्चित होगी।

FSSAI ने एक बयान में कहा है कि इस अभियान की रोजाना समीक्षा की जाएगी। इसके अलावा अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि यदि कोई निगरानी नमूना गुणवत्ता मानकों पर खरा नहीं उतरता है तो तत्काल नियामक नमूना लिया जाए और मिलावटी खाद्य तेल बेचने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए. FSSAI के अनुसार, अभियान के तहत अब तक देश के 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से खाद्य तेल, वनस्पति तेल और बहु-स्रोत खाद्य तेल के 279 नमूने लिए गए हैं।

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button