Ads

सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल! कच्चे तेल की कीमत में कमी से मिल सकती है राहत

रायपुर/सूत्र : 6 अप्रैल 2022 के बाद से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है, लेकिन जल्द ही इसकी कीमतों में और गिरावट आने की संभावना है. वह भी मामूली कटौती नहीं, लेकिन कीमतों में 10 फीसदी की कमी का अनुमान है। ये कयास वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमत में भारी गिरावट के चलते लगाए जा रहे हैं।

दरअसल, वैश्विक बाजार में ब्रेंट क्रूड की कीमत जनवरी के स्तर पर आ गई है। अभी यह 85 डॉलर प्रति बैरल के आसपास कारोबार कर रहा है, जबकि Dabut Ti 78 डॉलर प्रति बैरल के आसपास है। हाल के दिनों में यह 81 डॉलर तक पहुंच गया था। साल की शुरुआत में जहां कच्चे तेल की कीमत 150 डॉलर तक गई थी, वहीं अब 50 फीसदी तक नीचे आ गई है।

कमोडिटी विशेषज्ञों का कहना है कि जब कच्चे तेल में 1 डॉलर की कमी आती है तो देश की रिफाइनरी कंपनियां प्रति लीटर तेल में 45 पैसे की बचत करती हैं. इस लिहाज से कच्चे तेल की कीमतों में लगातार नरमी से सरकारी रिफाइनरी कंपनियों का घाटा भी अब तक पूरा हो गया है. ऐसे में संभावना बढ़ गई है कि अब पेट्रोल-डीजल के रेट में भी कटौती की जाएगी।

जानकारों का कहना है कि यह कटौती कितनी बड़ी होगी अभी कहा नहीं जा सकता, लेकिन इसमें करीब 10 से 15 फीसदी की कमी आ सकती है. यानी पेट्रोल-डीजल करीब 10 से 15 रुपये प्रति लीटर सस्ता हो सकता है। हालांकि, तेल की कीमतों में इतनी बड़ी कटौती एक साथ नहीं की जा सकती है, लेकिन पहले की तरह सिलसिलेवार तरीके से इसकी दरें नीचे आ सकती हैं।

कच्चे तेल की कीमत में गिरावट के तीन सबसे बड़े कारण हैं। पहला, वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण पूरी दुनिया में ईंधन की खपत कम हो रही है। इससे तेल उत्पादक देशों के संगठन ओपेक पर कीमतें घटाने का दबाव है। चीन में विरोध और बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन के कारण ईंधन की खपत कम हो गई है। अमेरिका और यूरोप की तमाम पाबंदियों के बावजूद वैश्विक बाजार में रूस के तेल की आपूर्ति हो रही है, जिससे मांग से ज्यादा आपूर्ति दिख रही है और इसका असर कच्चे तेल की कीमतों पर भी साफ दिख रहा है।

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button