रबी फसलों की तैयारी सिंचाई के लिए 2 लाख 16 हजार 924 हेक्टेयर में जलापूर्ति का लक्ष्य

बीते रबी की तुलना में इस वर्ष 78 हजार से अधिक रकबे में होगी जलापूर्ति राज्य स्तरीय जल उपयोगिता समिति की बैठक सम्पन्न
 

रायपुर : कृषि एवं जल संसाधन मंत्री श्री रविन्द्र चौबे की अध्यक्षता में आज नवा रायपुर स्थित शिवनाथ भवन में आयोजित राज्य स्तरीय जल उपयोगिता समिति की बैठक में आगामी रबी सीजन में राज्य के सिंचाई बांधों एवं जलाशयों से 2 लाख 16 हजार 924 हेक्टेयर में जलापूर्ति का लक्ष्य को पूरा करने के लिए गहन विचार-विमर्श किया गया। जल संसाधन मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को इस लक्ष्य के पूर्ति के लिए एक्शन प्लान तैयार करने तथा संबंधित इलाकों के किसानों को इसकी जानकारी देने को कहा, ताकि किसान रबी फसल के लिए बीज, खाद के इंतजाम के साथ ही अन्य आवश्यक तैयारी कर सके। बैठक में संसदीय सचिव सुश्री शकुंतला साहू, वरिष्ठ विधायक श्री धनेन्द्र साहू, अपर मुख्य सचिव वित्त एवं जल संसाधन श्री अमिताभ जैन, सचिव जल संसाधन श्री अविनाश चम्पावत सहित जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियंता, मुख्य अभियंता सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

बैठक में मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संसदीय सचिव श्री द्वारिकाधीश, विधायक सर्वश्री दलेश्वर साहू, श्री ननकी राम कंवर, श्रीमती इंदू बंजारे, श्रीमती अनिता शर्मा सहित अन्य विधायकगणों से भी रबी सीजन में फसलों की सिंचाई के लिए जलापूर्ति के संबंध में चर्चा की और उनके सुझावों को कार्ययोजना में शामिल करने के निर्देश दिए। मंत्री श्री चौबे ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को नहर लाईनिंग के कामों को तेजी से पूरा कराने के साथ अभनपुर स्थित लिफ्ट एरीगेशन सिस्टम के पम्पों की मरम्मत कराए जाने के निर्देश दिए।

इस साल रबी सीजन में राज्य की 9 वृहद सिंचाई परियोजना के माध्यम से 1 लाख 62 हजार 786, 36 मध्यम सिंचाई परियोजनाओं से 23 हजार 95 तथा 1641 लघु सिंचाई परियोजनाओं से 31 हजार 43 इस प्रकार कुल 2 लाख 16 हजार 924 हेक्टेयर में जलापूर्ति की जाएगी। महानदी परियोजना से 34 हजार हेक्टेयर, महानदी गोदावरी कछार परियोजना से 21 हजार हेक्टेयर, हसदेव बांगो परियोजना से 1 लाख 20 हजार 137 हेक्टेयर, हसदेव कछार परियोजना से 20 हजार 385 तथा हसदेव गंगा कछार परियोजना से 21 हजार 343 हेक्टेयर में रबी फसलों के लिए जलापूर्ति की योजना है। बैठक में यह भी जानकारी दी गई कि बीते वर्ष रबी सीजन में रबी फसलों की सिंचाई के लिए 1 लाख 38 हजार 689 हेक्टेयर का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसमें इस वर्ष 78 हजार 235 हेक्टेयर की बढ़ोत्तरी कर 2 लाख 16 हजार 924 हेक्टेयर निर्धारित किया गया है। गौरतलब है कि राज्य में बीते वर्षा मौसम में बेहतर बारिश होने की वजह से राज्य के अधिकांश बांध एवं जलाशय लबालब हो गए हैं। खरीफ फसलों की सिंचाई के लिए जलापूर्ति के बाद भी अभी भी राज्य के सिंचाई बांधों एवं जलाशयों में औसतन 82.86 प्रतिशत जल भराव है। इससे रबी सीजन में सिंचाई हेतु जलापूर्ति सहजता से हो सकेगी। 
 

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button