Ads

मंत्री डॉ.डहरिया ने जनसम्पर्क विभाग की फोटो प्रदर्शनी का किया शुभारंभ

मीडिया प्रतिनिधियों को बांटे प्रचार सामग्री किट

सुखसागर/बलौदाबाजार : नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ.शिवकुमार डहरिया ने आज यहां जिला पंचायत सभागार में राज्य सरकार की दो वर्ष की उपलब्धियों पर केन्द्रित जिला स्तरीय फोटो प्रदर्शनी का शुभांरभ किया। प्रदर्शनी का आयोजन जिला जनसम्पर्क विभाग द्वारा जिला प्रशासन एवं जिला पंचायत के सहयोग से किया गया है। प्रदर्शनी आम जनता के अवलोकन के लिए दो दिनों तक खुली रहेगी। रंगीन छायाचित्रों के संयोजन से राज्य में मुख्यमंत्री डॉ.भूपेश बघेल के नेतृत्व में पिछले दो सालों में हुए विकास कार्यों को खूबसूरत तरीके से प्रदर्शित किया गया है।विकास कार्यों एवं उपलब्धियों की तथ्यात्मक जानकारी समेटे प्रदर्शनी शुरू के दिन से ही आगन्तुकों के आकर्षण का केन्द्र बन गई है।

डॉ.डहरिया ने फीता काटकर प्रदर्शनी का औपचारिक शुभारंभ किया। उन्होंने बड़ी दिलचस्पी के साथ प्रदर्शनी का अवलोकन किया और इसकी काफी सराहना की। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ कृषक कल्याण परिषद के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र शर्मा, पूर्व विधायक श्री जनकराम वर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री राकेश कुमार वर्मा, जिला अध्यक्ष श्री हिरेन्द्र ठाकुर, सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के सदस्य श्री सतीश अग्रवाल,जिला पंचायत सदस्य श्री परमेश्वर यदु, जिला पंचायत की पूर्व सदस्य श्री सुनील माहेश्वरी एवं श्रीमती सीमा वर्मा ने भी प्रदर्शनी का अवलोकन कर इसकी खूब प्रशंसा की। कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन एवं जिला पंचायत सीईओ डॉ.फरिहा आलम सिद्धिकी ने मंत्री डॉ.डहरिया को प्रदर्शनी का अवलोकन कराया। श्री डहरिया ने मीडिया प्रतिनिधियों को जनसम्पर्क संचालनालय से प्राप्त प्रचार सामग्री के किट भी वितरित किये।

साथ ही राज्य शासन के दो वर्ष पूरा होने पर आज नगरीय प्रशासन एवं विकास श्रम मंत्री श्री शिवकुमार डहरिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जिले मे किए गए विकास कार्यों सहित 2 सालों की सरकार की उपलब्धियों को पेश किया है। जिसके महत्वपूर्ण बिंदु इस प्रकार है।

बलौदाबाजार -भाटापारा जिले में धान बेचने के लिए इस वर्ष 1 लाख 65 हजार किसानों ने कराया पंजीयन। पिछले साल से लगभग 11 हजार ज्यादा किसानों का हुआ पंजीयन। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत जिले के 1 लाख 50 हजार किसानों के लिए 444 करोड रूपये स्वीकृत। तीन किश्तों में 349 करोड़ राशि वितरित। चौथा किस्त मार्च के महीने में मिलेगा। जिले के 94 हजार 129 किसानों का 342 करोड़ 39 लाख रूपये का अल्पकालीन ऋण हुआ माफ। जिले में 67 नये प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों का गठन। इस प्रकार जिले में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों की संख्या 86 से बढ़कर 153 हुई। किसानों और जनप्रतिनिधियों की मांग पर जिले में 20 नये धान खरीदी केन्द्र खोले गए। किसानों को अब धान बेचने जिले में कहीं पर भी 5-6 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तय नहीं करना पड़ेगा।

बलौदाबाजार के वनांचल क्षेत्र के ग्राम बया में बहुप्रतीक्षित जिला सहकारी बैंक की नयी शाखा की स्थापना। इससे 6 समितियों के हजारों किसानों को 20-25 किलोमीटर दूर कसडोल जाना नहीं पड़ रहा है। खरीदी केन्द्रों में धान को सुरक्षित रखने के लिए 604 चबूतरा स्वीकृत। इनमें 546 का निर्माण कार्य पूर्ण। जिले के 600 ग्रामों के किसानों का 11 करोड़ 46 लाख रूपये का बकाया सिंचाई कर माफ। इससे 1 लाख 42 हजार किसानों को मिला फायदा।किसान समृद्धि योजना के अंतर्गत पिछले दो सालों में 132 किसानों के खेतों में नलकूप खनन एवं पम्प स्थापना। किसनों को 36 लाख रूपये का अनुदान। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत वर्ष 2019-20 में 1 लाख 27 हजार किसानों ने कराया बीमा। फसल क्षति के एवज में लगभग 16 करोड़ रूपये के बीमा दावें का भुगतान। इस वर्ष 1 लाख 15 हजार किसानों ने कराया है बीमा पंजीयन।

जिले की 83 गौठानों में गोबर बेचने के लिए 5 हजार 969 गौपालक पंजीकृत। इनमें से 2622 गौपालकों द्वारा 96 हजार क्विंटल गोबर बेचा गया जिससे किसानों को 1 करोड़ 92 लाख रूपये की अतिरिक्त आमदनी हुई। गौठानों में महिला समूहों द्वारा 520 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण। इसमें से 206 क्विंटल खाद का विक्रय। खाद विक्रय से महिलाओं की 1लाख 65 हजार की कमाई।  गौठानों में गायों को पौष्टिक हरा चारा खिलाने के लिए जिले में पहली बार 232 एकड़ रकबे में 86 चारागाह विकसित। इस साल इससे 3450 क्विंटल हरा चारा का उत्पादन। चारा को गौठानों के गायों को खिलाया गया। इससे दूध उत्पादन में वृद्धि।

जिले की दो ग्राम पंचायतों को उत्कृष्ट कार्यों के लिए मिला राज्य स्तरीय पुरस्कार। कसडोल विकासखण्ड के ग्राम ढेबी को 20 लाख रूपये का ओडीएफ स्थायित्व पुरस्कार और बलौदाबाजार विकासखण्ड के ग्राम भरसेली को माहवारी स्वच्छता प्रबंधन पुरस्कार से नवाजा गया है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में नई सरकार ने निरस्त किये गये वन अधिकार दावों के आवेदनों पर फिर से शुरू की सुनवाई। विगत दो वर्षों में पूर्व में निरस्त किये गये 2061 दावों को सही पाया गया और उन्हें अधिकार पत्र वितरित। जिले में अब तक 10484 लोगों को 43 हजार 616 हेक्टेयर रकबे का वन अधिकार पट्टा वितरित। इनमें 10260 व्यक्तिगत एवं 224 सामुदायिक वन अधिकार पत्र शामिल। वन अधिकार पट्टा धारक किसानों को प्राथमिक कृषि सहकारी समिति का सदस्य बनाकर सामान्य किसानों की तरह खेती के लिए अल्पकालीन लोन स्वीकृत। धान खरीदी के लिए भी उनका पंजीयन।

जिला मुख्यालय बलौदाबाजार में 1 जुलाई 2020 से अंग्रेजी माध्यम की उत्कृष्ट  शासकीय विद्यालय की स्थापना। कक्षा पहली से नवमीं तक 349 बच्चों का चयन।कोरोना के चलते आनलाईन पढ़ाई जारी।

अनुकूल वातावरण में गुणवत्ता पूर्व शिक्षा की व्यवस्था। सुसज्जित कमरे, लाईब्रेरी, कम्प्यूटर लैब, प्रोजेक्टर आदि आधुनिक सुविधाओं के जरिए पढ़ाई। शैक्षणिक सत्र 2021-22 से जिले में 9 और अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोलने की मिली स्वीकृति। इनमें भाटापारा, सिमगा, पलारी, लवन, कसडोल, टुण्डरा, बिलाईगढ़, भटगांव एवं सरसीवां शामिल।

कोरोना संक्रमण में स्कूलों के बंद होने पर भी बच्चों को पढ़ई तुहंर पारा एवं ऑनलाईन पोर्टल के जरिए पढ़ाई जारी योजना के अंतर्गत 3 लाख 50 हजार 301 विद्यार्थी लाभान्वित। इनमें लगभग 70 हजार बच्चे दूसरे जिले के भी शामिल।पढ़ई तुंहर द्वार योजना में जिले का बेहतर प्रदर्शन। राज्य स्तर पर चयनित टॉप टेन शिक्षकों में पांच शिक्षक बलौदाबाजार-भाटापारा जिले से। 

जिले की 2359 एनीमिक एवं कुपोषित महिलाओं को मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान का मिला फायदा। कुपोषण स्तर में आया उल्लेखनीय सुधार। कोरोना काल में आंगनबाड़ी के 48 हजार बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए घर पहुंचाकर सूखा पौष्टिक राशन दिया गया।

जिले के बिलाईगढ़ एवं कसडोल विकासखण्ड के 12 हाट बाजारों में 156 शिविरों का आयोजन। हाट-बाजारों में 4 हजार 824 मरीजों का उपचार एवं निःशुल्क दवाई वितरण। योजना में मलेरिया जांच, टी.बी जांच एनीमिया, कुष्ठ रोग पहचान, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटिज, गर्भवती जांच,टीकाकरण, डायरिया, त्वचा रोग आदि का प्रमुख रूप से इलाज।

कोरोना की रोकथाम और इलाज की जिले में पुख्ता व्यवस्था। जिला मुख्यालय में कोविड अस्पताल सहित सभी विकासखण्ड मुख्यालयों में कोविड केयर सेन्टर कार्यरत। जिसमें बेड की संख्या 797 है। 13 दिसम्बर की स्थिति में जिले में 8127 लोग कोरोना से संक्रमित। इसमें से 7632 मरीजों का इलाज हो चुका है। फिलहाल 374 लोगों का इलाज चल रहा है।

कोरोना संक्रमण से बचाने एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुष विभाग द्वारा 77 हजार लोगों को औषधी काढ़ा का सेवन कराया गया।

शिवनाथ नदी के कटाव रोकने के लिए कसडोल विकासखण्ड के ग्राम सिनोधा में नदी तट पर वृक्षारोपण किया गया। लगभग डेढ़ किलोमीटर नदी तट की लम्बाई में 10 हजार पौधे लगाए गए। राम वनगमन पथ पर 35 किलोमीटर की लम्बाई में 27 हजार पौधों का रोपण। इन पौधों की सुरक्षा के लिए स्थानीय लोगों द्वारा निर्मित 18 हजार बांस ट्री गार्ड का उपयेाग।

तेन्दूपत्ता संग्रहण दर 2500 रूपये प्रति मानक बोरे से बढ़ाकर 4 हजार मानक बोरा किया गया। जिले के 22 हजार संग्राहकों ने 13 हजार 641 मानक बोरा संग्रहण किया। राज्य सरकार द्वारा उन्हें 5 करोड़ 46 लाख रूपये का पारिश्रमिक भुगतान किया गया।

राज्य सरकार के उद्योग विभाग द्वारा जिले के 4 विकासखण्डों में फूड पार्क निर्माण की स्वीकृति। इसमें पलारी विकासखण्ड के कोसमंदा, बलौदाबाजार के बोईरडीह, कसडोल के ग्राम मटिया एवं बिलाईगढ़ विकासखण्ड के ग्राम अलीकूद शामिल। फूड पार्क की स्थापना से स्थानीय उद्यमियों और ग्रामीणों को रोजगार के नये अवसर मिलंेगे।

राज्य सरकार ने 5 डिस्मिल से छोटे आकार के भूखण्डों के पंजीयन पर लगा प्रतिबंध समाप्त किया। इससे जिले के 6134 लोगों को लाभ मिला और उन्होंने सम्पति की खरीदी-बिक्री और हस्तांतरण किया । अचल सम्पतियों के बाजार मूल्य में चालू साल में राज्य सरकार द्वारा 30 प्रतिशत की कमी की गई। जिससे 13 हजार से ज्यादा दस्तावेजों का पंजीयन हुआ और 37 करोड़ की राजस्व की प्राप्ति हुई।

बिजली बिल हॉफ योजना के तहत जिले के कुल 1 लाख 66 हजार 680 उपभोक्ताओं को वित्तीय वर्ष 2019-20 में 20 करोड़ 29 लाख एवं वित्तीय वर्ष 2020-21 में सितम्बर महीने तक 19 करोड़ 18 लाख रूपये का छूट प्रदान किया गया है।

सिंचाई पम्पों की फ्लेट रेट योजना के अंतर्गत 8 हजार 856 किसान लाभान्वित हो रहे हैं। उनसे 100 रूपये प्रति हार्स पाॅवर मात्र बिजली बिल लिया जा रहा है।

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button