बांस से एथेनॉल बनाने का प्लांट लगाएगी एनटीपीसी

नई दिल्ली: सब कुछ ठीक रहा तो देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी एनटीपीसी जल्द ही देश में बांस से एथनॉल बनाने की रिफाइनरी स्थापित करेगी. इसके लिए एनटीपीसी ने फिनलैंड की कंपनी चेम्पोलिस की भारतीय सहायक कंपनी के साथ करार किया है।

इसकी व्यवहार्यता की जांच करने के लिए दोनों कंपनियों के बीच एक गैर-बाध्यकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। एनटीपीसी की ओर से जानकारी दी गई है कि उत्तर-पूर्वी क्षेत्र के बोगाईगांव में बांस आधारित बायो-रिफाइनरी स्थापित की जा सकती है।

इसके अलावा, दोनों कंपनियां थर्मल पावर परियोजनाओं के लिए संयुक्त रूप से जैव-कोयला और अन्य मूल्य वर्धित उत्पादों के निर्माण की संभावना भी तलाश रही हैं। एनटीपीसी का पहले से ही बोंगाईगांव में थर्मल पावर प्लांट है। इसके साथ ही जो भी नई तकनीक पर सहमति बनेगी, वह इसी प्लांट से जुड़ी होगी।

कंपनी का मानना है कि ग्रीन टेक्नोलॉजी पर काम कर थर्मल पावर प्लांट में ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाले कोयले की जगह बायो कोल का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस संबंध में मिली सफलता देश में भी प्रदूषण को नियंत्रित करने में काफी मददगार साबित हो सकती है। ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले का उपयोग कम किया जा सकता है। इससे एनटीपीसी की कार्बन उत्सर्जन को नियंत्रित करने की योजना को भी गति मिल सकती है। साथ ही स्थानीय विकास में भी मदद मिलेगी। बांस का उत्पादन करने वालों को अधिक कीमत मिलेगी जिससे उनके जीवन स्तर में सुधार हो सकता है।

Show More

KR. MAHI

CHIEF EDITOR KAROBAR SANDESH

Related Articles

Back to top button